फर्जी नक्सली बनकर लाखों की लूट व फिरौती वसूली करने वाले गिरोह को पुलिस ने दबोचा…

गरियाबंद। जिले के विभिन्न ग्राम पंचायतों के सरपंच, उप सरपंच सचिव को शिकार बनाते थे। पहली दस्तक में लेते थे टोकन मनी, चार-पांच दिन बाद रकम वसूलने आते थे। अपने साथ असली हथियार जैसा दिखने वाला नकली हथियार रखते थे। भरमार, पिस्टल, बटनदार चाकू, गंडाइसी दिखाकर दहसशत फैलाते थे।

वाकी-टाकी से कामरेड-कामरेड कहकर असली नक्सली होने का अहसास कराते थे। एक साल से पीड़ित सरपंच परेशान होकर रिपोर्ट लिखाने थाने में पहुंचा। पुलिस ने विशेष योजना बनाकर आरोपियों को रंगे हाथ धर दबोचा है। मंहगी मोटर सायकल एवं आलीशान जिदंगी के शौक को पूरा करने का गिरोह बना लिया था।