झांकी उत्सव में जयस्तंभ चौक पर मंच को लेकर भी राजनीति, भाजपा बोली – धार्मिक आयोजन में भी प्रदेश सरकार की दादागिरी

रायपुर । प्रदेश सरकार की दमनकारी नीति चरम पर है। धार्मिक आयोजनों तक में जिस तरह का दुराग्रह पूर्ण कार्रवाई की जा रही है। भारतीय जनता पार्टी उसकी निंदा करती है। यह बातें पूर्व मंत्री राजेश मूणत ने प्रेस वार्ता में कही। मूणत ने कहा कि पिछले 17 वर्षों से जयस्तंम्भ चौक पर किरण होटल के सामने नगर भर के गणेश झांकियों का स्वागत किया जाता रहा है। शहर की सांस्कृतिक पहचान का रूप ले चुके इस आयोजन में गणेश भक्तों का अभिनंदन श्रेष्ठ झांकियों को पुरस्कृत करने समेत अनेक आयोजन होते रहे हैं। मूणत ने कहा कि कभी भी इस आयोजन में किसी तरह की राजनीति नहीं हुई, लेकिन पिछले हफ्ते भर से उस जगह की अनुमति के लिए दिया गया आवेदन प्रशासन के माध्यम से निरस्त करा दिया गया है।

राजेश मूणत ने कहा कि अपने राजनीतिक जीवन में उन्होंने कभी भी ऐसा दुराग्रह और ओछी राजनीति नहीं देखा। सरकार के इशारे पर की जा रही इस दुखद कार्रवाई की वे निंदा करते हैं। प्रदेश भर में जिस तरह प्रतिशोध की राजनीति चल रही है, उसी बदलापुर का यह भी एक अध्याय है। उन्होंने कहा कि छत्तीसगढ़ की पहचान समूचे देश में संस्कारों के प्रदेश के रूप में, उनकी सांस्कृतिक विशेषता के कारण हो रही है। उत्सव, त्यौहार आदि बिना किसी दलगत भेदभाव के यहां मनाए जाते रहे हैं, लेकिन कांग्रेस सरकार द्वारा ऐसे आयोजनों में भी बेजा दखल देकर ओछी मानसिकता का ही प्रदर्शन किया जा रहा है। इसकी इसकी जितनी भी भत्र्सना की जाए कम है।

आयोजक संस्था सार्वजनिक सांस्कृतिक सेवा समिति के अध्यक्ष छगन लाल मूंदड़ा ने बताया कि पिछले तीन दिनों से समिति के सदस्यगणों को लगातार प्रशासन द्वारा बुला-बुलाकर उन्हें गुमराह किया गया, और ऐन कार्यक्रम के पूर्व संध्या पर अनुमति देने से इनकार कर दिया गया, यह दुखद है।