मोदी भाजपा का किसान विरोधी चेहरा उजागर, लोकसभा चुनाव में वोट लेने तक सीमित था किसानों का सम्मान – कांग्रेस

रायपुर l किसान सम्मान निधि पर बयानबाजी कर रहे भाजपा पर पलटवार करते हुए प्रदेश कांग्रेस प्रवक्ता धनंजय सिंह ठाकुर ने कहा कि छत्तीसगढ़ भाजपा के नेता मोदी सरकार की किसान विरोधी चेहरे पर लीपापोती कर किसान हितैषी बताने में जुटे हैं और राज्य सरकार पर बेतुका आरोप लगाकर गलत बयानबाजी कर रहे हैं। खुद को किसान का हमदर्द बताने वाले भाजपा के नेता असल मायने में किसान विरोधी मोदी सरकार के किसान विरोधी रवैया पर पर्दा डालकर छत्तीसगढ़ के किसानों का ही अहित कर रहे हैं। मोदी-भाजपा की सरकार ने छत्तीसगढ़ के ही नहीं बल्कि देशभर के किसानों के साथ किसान सम्मान निधि के नाम से छल किया है। भाजपा ने तीसरे कार्यकाल में किसानों का वोट बटोरने के लिए धान का 2100 रुपया क्विंटल एवं प्रति क्विंटल 300 रुपया बोनस देने का वादा किया था और आज तक किसानों का 2 साल का बोनस बकाया है। वैसे ही किसानों का वोट बटोरने के लिए मोदी की सरकार ने लोकसभा चुनाव के पहले किसान सम्मान निधि योजना की घोषणा कर दो किस्त जारी कर किसानों का वोट तो हासिल कर लिया और सत्ता पाते ही किसान सम्मान निधि योजना में बदलाव कर भूमि की सीमा की बाध्यता को समाप्त कर सभी किसानों को इसका लाभ देने की घोषणा की जो मोदी सरकार का दूसरा झूठ है। मोदी की सरकार ने उन लोगों को किसान मानने से इंकार कर दिया जो इंजीनियर है, डॉक्टर है, चतुर्थ श्रेणी के कर्मचारी हैं या 10,000 से अधिक पेंशन पाते हैं जिनका परंपरागत कृषि कार्य से जुड़े है।

प्रदेश कांग्रेस प्रवक्ता धनंजय सिंह ठाकुर ने कहा कि छत्तीसगढ़ में भाजपा सरकार में रही तब भी किसानों का विरोधी रही अब विपक्ष में है तब भी किसान विरोधी अपने कृत्यों को ही आगे बढ़ा रहे हैं। भाजपा नेताओं में थोड़ी बहुत भी नैतिकता बची है तो छत्तीसगढ़ के किसानों का हित चाहते हैं तो विपक्षी होने का धर्म निभाएं और केंद्र की मोदी सरकार को पत्र लिखकर मांग करें कि छत्तीसगढ़ के किसानों को तीसरी किस्त की राशि दीपावली के पहले जारी करें। लेकिन मोदी के सामने खड़े होकर छत्तीसगढ़ के हित की बात करने की क्षमता छत्तीसगढ़ के भाजपा के नेताओं में नहीं है। प्रदेश कांग्रेस प्रवक्ता धनंजय सिंह ठाकुर ने कहा कि छत्तीसगढ़ के अलावा महाराष्ट्र, उत्तरप्रदेश, उत्तराखंड सहित 9 राज्य ऐसे हैं जहां किसान सम्मान निधि की तीसरी राशि जारी नहीं की गई है एवं प्रथम किस्त में लाभार्थी किसानों की संख्या और द्वितीय किस्त में लाभार्थियों की संख्या प्रथम किस्त के आधा कर दी गयी है। प्रदेश कांग्रेस प्रवक्ता धनंजय सिंह ठाकुर ने कहा कि भाजपा छत्तीसगढ़ के किसानों को गुमराह करने की कोशिश कर रही है। राज्य सरकार ने जो आंकड़े दिए हैं उसमें कटौती कर प्रथम किस्त किसान सम्मान निधि का जारी हुआ था, दूसरी किस्त में एक चौथाई किसानों को भी नहीं मिल पाया। किसान सम्मान निधि ऐसे में छत्तीसगढ़ भाजपा के नेता किस हैसियत से खुद को किसान हितैषी बता रहे हैं आत्म अवलोकन करें।

प्रदेश कांग्रेस प्रवक्ता धनंजय सिंह ठाकुर ने किसान सम्मान निधि को किसानों के नाम से मोदी सरकार का बड़ा घोटाला बताते हुये कहा कि किसान सम्मान निधि की राशि की पहली किस्त 6 करोड़ 76 लाख 48 हजार 485 किसानों को जारी किया गया। दूसरी किस्त में एक करोड़ से अधिक किसानों का नाम हटा दिया गया और 5 करोड़ 14 लाख 20 हजार 802 किसानों को सम्मान निधि दिया गया। तीसरी किस्त में लगभग 5 करोड़ किसानों का नाम हटा दिया गया और एक करोड़ 74 लाख 20 हजार 230 किसानों को राशि जारी किया गया। इससे स्पष्ट है कि मोदी भाजपा की सरकार किसान विरोधी है। उत्तर प्रदेश के किसानों को तीसरी किस्त की राशि एक भी किसानों को नहीं मिला है।