पांच बेटियों को जन्म देने की विवाहिता को मिली ये सजा, जनसुनवाई में SDM ने भी दुत्कारा… पढ़ें पूरी खबर

छतरपुर । पति ने अपनी पत्नी को घर से निकाल दिया। दोनों के पांच बच्चे हैं और पांचों बेटियां है। यही वजह है कि स्त्री की उसके घर में कोई जगह नहीं है। एक ओर लड़का और लड़की के बीच पनप रहे भेदभाव को खत्म करने के लिए कई जागरूकता अभियान चलाए जा रहे हैं तो वहीं दूसरी ओर शबर के नरसिंहगढ़ पुरवा की ये घटना वाकई झकझोर देने वाली है।

मंगलवार को महिला अपनी पांचों बेटियों के साथ कलेक्टर के पास जनसुनवाई में शिकायत करने पहुंचीं। हालांकि कलेक्टर नहीं थे तो उसने एसडीएम को अपनी व्यथा बताई, लेकिन एसडीएम ने कार्यवाही के बजाय महिला को दुत्कार दिया। पांच बेटियों के साथ कलेक्टर के पास पहुंची महिला को एसडीएम ने बाहर का रास्ता दिखा दिया और उसके वकील से कहा कि इसे अपने साथ ले जाओ। इसके बाद महिला एसपी ऑफिस चली गई। मामले में एसपी ने नौगांव टीआई को पति के खिलाफ एफआईआर के आदेश दिए हैं।

जानकारी के मुताबिक महिला की शादी 12 साल पहले नौगांव थाना क्षेत्र के लहेरापुरवा में भज्जू उर्फ हरलाल कुशवाह के साथ हुई थी। इस दौरान उसने पांच बेटियों को जन्म दिया। पांचवी बार जब बेटी हुई तो पति और ससुराल वालों ने प्रताड़ित कर उसे घर से निकाल दिया। बताया जा रहा है कि महिला कुल 6 बेटियों को जन्म दे चुकी है जिसमें एक की मौत हो चुकी है।