गश्त पर निकले जवान पहुंचे स्कूल, शिक्षक बन बच्चों को पढ़ाया

संवाददाता – सूरज गुप्ता की रिपोर्ट

बलरामपुर । जिले के नक्सल प्रभावित क्षेत्र नावाडीह गांव के शासकीय स्कूल में शिक्षकों का आभाव है। इसका प्रभाव स्कूल के उन बच्चों पर पड़ रहा है जो शिक्षा के प्रति जुनून रखते हैं। छात्रों को उनके मुताबिक शिक्षा नहीं मिल पा रही है। मसलन क्षेत्र के बच्चे पढ़ाई में काफी कमजोर हैं। वहीं शुक्रवार को स्कूल इलाके से एक बड़ी ही खुबसूरत तस्वीर सामने आई है। तस्वीर में सुरक्षाबल के जवान बच्चों को पढ़ाते नजर आ रहे हैं।

दरअसल सीआरपीएफ 62 बटालियन के जवान सर्चिंग के लिए नक्सल प्रभावित गांव चटनियां, जलबोथा, कर्चा और सोनबरसा की ओर गश्त पर निकले हुए थे। इस दौरान सहायक कमांडेंट रामा राव के नेतृत्व में जवान नावाडीह स्कूल भी पहुंचे। तब जवानों को इस बात की जानकारी हुई कि स्कूल में शिक्षकों की कमी है। इसके बाद जवानों ने ही हाथ पर कलम लेकर कमान संभाल ली।

उन्होंने छात्रों को विभिन्न प्रकार की जानकारी दी। उन्हें देश के अनछुए पहलूओं के बारे में बताया। जवानों ने छोटी-छोटी जानकारियां बच्चों से साझा की। वहीं बच्चों में भी जानने की उत्सुकता देखने को मिली। सहायक कमांडेंट बीके रामा राव ने कहा कि आप हमारे देश के भविष्य हैं। आप मन लगाकर पढ़ें और इस समाज को शिक्षित एवं विकासशील बनाने में योगदान दें, तभी हमारा भारत बदल सकता है।