रमन सिंह पर कांग्रेस का पलटवार, कहा – काम वित्तीय अनुशासन के साथ हो रहा है, इसे समझना आपके बस की बात नहीं

रायपुर । सीएम भूपेश के बयान मितव्ययिता के लिए मैंने अपनी सुरक्षा में भी कटौती की है, कारकेड को कम किया है वाले बयान पर पूर्व मुख्यमंत्री रमन सिंह के बान सामने आने के बाद कांग्रेसे ने भी रमन सिंह पर पलटवार किया है। दरअसल मुख्यमंत्री भूपेश बघेल पर अपनी प्रतिक्रिया देते हुए रमन सिंह ने कहा था कि उन्हें उनकी सरकार में छत्तीसगढ़ दिवालियापन से गुजर रहा है। उन्हें प्रदेश के विकास के लिए काम करना चाहिए।

रमन सिंह के इस बयान पर पलटवार करते हुए प्रदेश कांग्रेस के महामंत्री और संचार विभाग के अध्यक्ष शैलेश नितिन त्रिवेदी ने कहा है कि पिछली सरकार से इस समय वित्तीय स्थिति बेहतर है। कांग्रेस की सरकार विकास कार्य कर रही है और तेजी से करेगी। उन्होंने कहा, रमन सिंह जी ने विचारों के दीवालियापन के चलते वित्तीय स्थिति को लेकर निराधार आरोप लगाए है।

शैलेश नितन त्रिवेदी ने कहा कि भूपेश बघेल की सरकार में वित्तीय अनुशासन और किफायत के साथ काम हो रहा है। फिजूल खर्ची पर प्रभावी अंकुश लगा है। किसानों का 11000 करोड़ का कर्ज माफ किया गया है। किसानों का धान 2500 रू. प्रतिक्विंटल में खरीदा गया है और 5 वर्षों तक खरीदा जाएगा। इसे समझ पाना रमन सिंह जी के बस की बात नहीं है जिन्होंने 5 साल तक 300 रू. बोनस और 2100 रू. धान का दाम कहकर घोषणा पत्र में लिखकर भी और विधानसभा पटल में घोषणा करके भी नहीं दिया। किसानों से धोखाधड़ी की और मजूदरों से धोखाधड़ी की है। रमन सिंह जी आमने सामने बैठकर राज्य की वित्तीय स्थिति पर बात कर लें तो वित्तीय स्थिति को बेहतर समझ पायेंगे। रमन सिंह जी 15 साल तक मुख्यमंत्री रहे है। लंबे समय तक रमन सिंह ने वित्त मंत्रालय संभाला है।

उन्होंने आगे कहा कि कांग्रेस सरकार का खर्चों में कटौती का यह पहला निर्णय नहीं है। वित्तीय अनुशासन, मितव्ययिता और पैसों का पूरा उपयोग कांग्रेस सरकार की संस्कृति बन गयी है। पूर्व में भी कांग्रेस सरकार प्रदेश की सत्ता संभालते ही काफिले की संख्या घटाकर लगभग आधी कर दी थी। जिस प्रकार से पूर्ववर्ती सरकार डीएमएफ के पैसे को विमानतल बनाने में खर्च कर पैसों की बर्बादी की। स्काईवाक के द्वारा गैरजरूरी कार्यों में जनता का पैसा लुटाया और गुणवत्ताहीन एक्सप्रेस हाईवे जैसी योजनाओं में प्रदेश की जनता का धन खर्च करते रहे हैं। घटिया क्वालिटी का मोबाइल बांटने की योजना भी पूर्ववर्ती रमन सरकार द्वारा पैसों का दुरुपयोग था। वहीं भूपेश बघेल जी के नेतृत्व में कांग्रेस सरकार ने मितव्ययिता को बढ़ावा देते हुए अनावश्यक खर्चों में कटौती समय-समय पर करते रही है। जहां पूर्ववर्ती सरकार 2 मंजिल की बिल्डिंगों में 4-4 लिफ्ट लगा कर पैसे का दुरुपयोग करने का काम करती रही। वही प्रदेश के वर्तमान मुखिया भूपेश बघेल जी ने नए मुख्यमंत्री आवास के संदर्भ में भी कहा कि राजे-रजवाड़े के समय लद गए अब जितना आवश्यक है केवल उसी रूप में नया मुख्यमंत्री आवास तैयार किया जाए और उसी सोच का ही एक निर्णय आज के खर्चे की कटौती के निर्णय में भी साफ झलक रहा है।