कांग्रेस के चंगुल में फसी भाजपा, घोषित टिकट को बदलने पर लग रहे आरोप, क्या है पूरा मामला पढ़े पूरी खबर…

रायपुर। रायपुर उत्तर विधानसभा क्षेत्र का मोती लाल नेहरू वार्ड क्रमांक आठ टिकट बंटवारे के साथ ही विवाद में बना हुआ है। लगातार रायपुर उत्तर के वार्ड 8 को लेकर नए नए खुलासे हो रहे हैं। इस वार्ड को लेकर बीजेपी नेताओं पर गंभीर आरोप लग रहे हैं।आरोप है की भाजपा के मजबूत प्रत्याशी को देखते हुए कांग्रेस के बड़े नेता ने पैसा देकर भाजपा के एक मजबूत दावेदार का टिकट कटवा दिया।

लिस्ट जारी होने के बाद नेताओं ने कारण अलग-अलग बताए। जारी लिस्ट के 3 नाम काटकर नाम दुबारा जारी किए गए, और टिकट बेचे गए।

आरोप ये भी है कि इन वार्डो में से एक कांग्रेस प्रत्याशी को महापौर के लिए रिज़र्व रखा है, इलाका मंत्री का है इसलिए साख की बात है। और इसी नेता की साख बचाने के लिए भाजपा के एक बड़े नेता को सेट किया गया, और मजबूत प्रत्याशी का नाम कटवा कर कमज़ोर प्रत्याशी को टिकट दिलाया गया। यही नही सुत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक इस दौरान इलाके के बड़े सूद खोर को टिकट दिया गया वो कमीशन खोरी, जमीन दलाली का बहुत बड़ा खिलाड़ी है, जिसके चंगुल में के गांव के किसान फसे हुए हैं। आरोप है की ये टिकट बाकायदा पैसा लेकर बेचे गए हैं।

भारतिय जनता पार्टी की जब रायपुर निगम क्षेत्र की सूची जारी हुई तब रायपुर उत्तर विधानसभा क्षेत्र के मोती लाल नेहरू वार्ड क्रमांक आठ से गोपेश साहू का नाम भाजपा प्रत्यशी के तौर पर था, लेकिन शाम ढलते ही देर रात तक एक और सूची जारी हुई, जिसमे वार्ड क्रमांक 8 से गोपेश साहू का टिकट कट चुका था और उनकी जगह पर अशोक सिन्हा को टिकट दे दो गई।

जहां पर पढ़े लिस्ट जब जारी हुई तब सूची में नाम गोपेश साहू का था, लेकिन देर रात गोपेश साहू का नाम बदल कर उसी वार्ड के रहवासी भाजपा के ही दूसरे नेता अशोक सिन्हा के नाम की लिस्ट जारी हुई। सूची जारी होते ही गोपेश साहू गोपेश साहू के समर्थक उबाल पड़े और आधी रात को ही भाजपा प्रदेश कार्यालय का घेराव कर दिया और घंटो तक नारेबाजी करते रहें। इतना ही नहीं सुबह होते ही खुद गोपेश साहू पुरे दाल बल के साथ भाजपा के शहर कार्यालय एकात्म परिसर पहुंचे, जिसके बाद का नजारा देखने लायक था। टिकट काट देने से नाराज गोपेश साहू के समर्थक एकात्म परिसर में तब तक हंगामा करते रहे जब तक पार्टी पदाधिकारियों ने गोपेश साहू को भी नामांकन भरने को कह नहीं दिया।